Line of Credit क्या है? बिजनेस लोन और Line of Credit में अंतर

Line of Credit क्या है
Line of Credit क्या है

Line of Credit – आप आज तक अलग अलग प्रकार के लोन के बारें में सुना होगा लेकिन क्या आप जानते है की लाइन ऑफ क्रेडिट क्या होता है? अगर नहीं तो आइए इस लेख में समझते है की आखिर Credit Line Kya hai? और इसके फायदें क्या है (Benefits of Line of Credit in Hindi)

Line of Credit (LOC) एक पहले से निर्धारित उधार सीमा को कहा जाता है | उधारकर्ता अपनी जरूरत के हिसाब से एलओसी की अधिकतम राशि का इस्तेमाल कर सकता है और जब पुरानी राशि चुका दी जाती है, तो फिर से उधार लिया जा सकता है। एलओसी एक वित्तीय संस्थान-आमतौर पर एक बैंक और एक ग्राहक के बीच सुविधा है जिसके ज़रिये अधिकतम ऋण राशि का निर्धारण किया जाता है और इसे उधारकर्ता उधार ले सकता है। उधारकर्ता किसी भी समय एलओसी से धन उधर लेने की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं, लेकिन वह राशि निर्धारित अधिकतम राशि ( Maximum Credit Limit) से जयादा नहीं होनी चाहिए ।

एलओसी सिक्योर्ड (Secured) या अनसिक्योर्ड (Unsecured) हो सकती है जिसमें अनसिक्योर्ड (Unsecured) एलओसी मे आम तौर पर ब्याज दर ज़यादा होती होती हैं। एलओसी का मुख्य लाभ अंतर्निहित लचीलापन (Flexiblity) होती है।

Line of Credit क्या है?

इसके नाम से ही बहुत कुछ समझ आता है | Line of Credit वित्तीय सहायता (financial help) का एक निरंतर (continuous) तरीका है जिसमें एक उधारकर्ता (borrowers) अपनी आवश्यकताओं के अनुसार लगातार अंतराल पर एक राशि उधार ले सकता है। आवेदक को एक निर्धारित ऋण राशि के लिए आवेदन करना होता है, और एक बार स्वीकृत होने के बाद, उन्हें एक बार में पूरी स्वीकृत राशि मिल जाती है ।

यह भी पढ़े-  इंदिरा आवास योजना | Indira Awas Yojana List 2022

उधारकर्ता (borrowers) केवल उतने पैसे निकाल सकते हैं जितने की उसके लिए राशि निर्धारित है और और अगर पूरी राशि एक साथ नहीं ली है तो बची हुई राशि को लोन देने वाले के पास रहने दें। फिर अगर उन्हें बाद मे आगे पैसे की जरूरत है, तो वह बची हुई राशि उधार ले सकते हैं। इस मामले में, ब्याज केवल निकाली हुई राशि पर लगाया जाता है कुल स्वीकृत राशि पर नहीं (total sanctioned amount) पर।

बिजनेस लोन क्या होता है?

बिज़नेस लोन वह लोन होता है जो बिज़नेस करने के लिए दिया जाता है | बैंक (Bank) और एनबीएफसी (NBFC) लोगों को बिजनेस शुरू करने, बिजनेस बढ़ाने और बिजनेस की दूसरी जरूरतों को पूरा करने के लिए बिजनेस लोन देते हैं। बिजनेस लोन मुख्य रूप से दो तरह के होते हैं, सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन। सुरक्षित ऋण के मामले में, आवेदक ऋण के लिए बैंक के साथ किसी भी सुरक्षा/गारंटी का वचन देता है। हालांकि, असुरक्षित ऋण के मामले में, बैंक द्वारा कोई सुरक्षा/गारंटी देने की आवश्यकता नहीं है।

Line of Credit लोन के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया

●        आप अपने पंजीकृत (registered) मोबाइल नंबर के साथ साइन अप करें |

●        अपनी ऋण पात्रता जांचने के लिए अपने मूल विवरण भरें |

●        फिर आप अपने पैन कार्ड (pan card) के और आधार कार्ड (Aadhar card) के आधार पर रीयल-टाइम (Real Time) सशर्त ऑफ़र (conditional offer) प्राप्त करें |

●        कुछ ज़रूरी मांगे गए दस्तावेज अपलोड करें – एड्रेस प्रूफ (Address Proof), बैंक स्टेटमेंट (Bank Statement) और आईटीआर (ITR) |

●        अब ऐप पर अपने ऋण आवेदन की स्थिति को ट्रैक करें |

●        ऋण आवेदन स्वीकृत हो गया है और पैसा सीधे आपके बैंक खाते में स्थानांतरित कर दिया गया है |

बिजनेस लोन और Line of Credit में अंतर

Line of Credit और बिजनेस लोन दोनों ही लोन लेने के अलग अलग तरीके हैं लेकिन दोनों के बीच कुछ अंतर भी होते है जो नीचे बताये गए हैं।

यह भी पढ़े-  Credit SCORE क्या होता है | CIBIL Score Meaning in Hindi

●        लघु उद्योग ऋण आमतौर पर व्यवसाय की किसी एक आवश्यकता के लिए दिया जाने वाला ऋण होता है।

●        Line of Credit ट्रेडर को अपनी इच्छा और आवश्यकता के अनुसार क्रेडिट की सीमा तक खर्च करने की स्वतंत्रता देता है।

बिजनेस लोन की पात्रता

बिजनेस लोन (Business Loan) लेने के लिए कारोबारी को कुछ जरूरी पात्रता (Requirements) पूरी करना होता है। इन पात्रता (Requirements) में समिल्लित होता है –

●        बिजनेस जो की कम से कम 2 साल पुराना होना चाहिए

●        एक निश्चित रकम तक वार्षिक टर्नओवर होना चाहिए

●        आईटीआर (ITR) फाइल होना चाहिए

●        घर या बिजनेस की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर होना चाहिए इत्यादि।

Line of Credit की पात्रता

●        Line of Credit की पात्रता बिजनेस लोन की पात्रता से अलग है |

●        Line of Credit प्राप्त करने के लिए आवेदनकर्ता को अपना CIBIL SCORE यानी क्रेडिट स्कोर बेहतर बनाए रखने की ज़रुरत होती है।

●        आमदनी अच्छी (good income) हो और आमदनी का जरिया (source of income) भी दिखाया जाए तो इससे लोन मिलने मे ज़यादा परेशानी नहीं होती है ।

Line of Credit के प्रकार

ऋण के मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं, जो ऋणदाता द्वारा प्रदान किया जाता है-

1.        सुरक्षित (Secured loan): सामान्यता इस प्रकार के ऋण ऋण में, एक मूल्यवान संपत्ति को संपार्श्विक के रूप में गिरवी रखना पड़ता है। इसमें सुरक्षा शामिल है, इसलिए क्रेडिट की सुरक्षित लाइन में भी कम ब्याज दरें हैं।

2.        असुरक्षित (Unsecured Loan): एक असुरक्षित ऋण बिना किसी सुरक्षा या संपार्श्विक के स्वीकृत है। यह उधारदाताओं के लिए जोखिम भरा है इसलिए वे आपसे उच्च ब्याज दर वसूल सकते हैं।

Line of Credit के फायदें |

पारंपरिक ऋण (conventional loan) की तुलना में लाइन ऑफ क्रेडिट के कई लाभ हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ लाभ के बारे में-

●        आमतौर पर बिजनेस लोन या पर्सनल लोन की तुलना में line of credit के लिए ब्याज दरें कम होती हैं। line of credit में उधारकर्ता अप्रूव्ड क्रेडिट लिमिट (Approved Credit Limit) से अपनी ज़रुरत के अनुसार किसी भी राशि का उपयोग कर सकता है।

यह भी पढ़े-  IPO क्या है? यह कैसे काम करता है | What is IPO in hindi

●        यह एक नियमित ऋण के विपरीत है, जहां ऋणदाता कुल ऋण राशि तय करता है, और आपको पूरी राशि को उधार लेना होता है।

●        ब्याज केवल निकाली गई राशि पर लागू होता है।

●        छोटे व्यवसाय के मालिक और स्व-नियोजित व्यक्ति लाइन ऑफ क्रेडिट ऋण का लाभ उठा सकते हैं क्योंकि वे अपनी आवश्यकताओं के अनुसार छोटी राशि उधार ले सकते हैं, इस प्रकार जोखिम को सीमित कर सकते हैं और एक ही समय में वित्तीय सहायता सुनिश्चित कर सकते हैं। कर सकते हैं।

●        लाइन ऑफ क्रेडिट की निर्धारित राशि की लिमिट से व्यवसाय के मालिक निश्चिंत हो सकते हैं की जरूरत पड़ने पर राशि उपलब्ध होगी |

●        जो व्यक्ति व्यक्तिगत ऋण के लिए उच्च ब्याज दरों से बचना चाहते हैं, वे हमेशा अपनी व्यावसायिक जरूरतों के लिए line of credit का उपयोग कर सकते हैं।

●        एलओसी (LOC) एक निर्धारित क्रेडिट सीमा के साथ आता है जिसका लिमिट के अनुसार उपयोग किसी भी समय किया जा सकता है।

line of credit के लिए ऑफलाइन आवेदन कैसे करें? |

ऑफलाइन line of credit के आवेदन करने के लिए आप किसी भी बैंक या एनबीएफसी में जा सकते हैं और आवेदन का फॉर्म मे सभी जानकारी भरकर और सभी ज़रूरी दस्तावेज लगाकर line of credit के लिए आवेदन कर सकते हैं। ऋणदाता आपकी मासिक आय, क्रेडिट स्कोर, पिछले ऋण, पुनर्भुगतान इतिहास आदि का मूल्यांकन करेगा और उसके बाद सब ठीक रहा तो आपका आवेदन मान लिया जायेगा। बैंक या एनबीएफसी सभी पूरी जानकारी सुनिश्चित करने के बाद ऋण राशि को मंजूरी देगा।

यह भी पढ़े : अटल पेंशन योजना की पूरी जानकारी : Atal Pension Yojana in Hindi

यह भी पढ़े : Credit SCORE क्या होता है | CIBIL Score Meaning in Hindi

For NCERT Solutions Please visit www.educationforindia.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here